IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-4 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | मेडिकल एथिक्स और नैतिक मुद्दे

0
426
IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-4 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | मेडिकल एथिक्स और नैतिक मुद्दे

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-4 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | मेडिकल एथिक्स और नैतिक मुद्दे- संघ लोक सेवा आयोग अक्टूबर के महीने में सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का आयोजन करेगा। इस परीक्षा का उद्देश्य एक छात्र को परखने से है जो शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों की समझ के आधार से संबंधित है। समस्या यह है कि चाहे कितनी ही अच्छी तैयारी कर ली जाए और भले ही कितना ज्ञान अर्जित कर लिया जाए फिर भी परीक्षा को लेकर हमेशा अनिश्चितता का भय रहता ही है। इस डर पर काबू पाने के लिए  IAS मुख्य परीक्षा के GS पेपर-4 के लिए 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स आपसे साझा कर रहे हैं, जिससे आप इन टॉपिक्स पर अपनी पकड़ मजबूत कर पाएं और आप परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन कर सकें।

इस प्रश्न-पत्र में ऐसे प्रश्न शामिल होंगे जो सार्वजनिक जीवन में उम्मीदवारों की सत्यनिष्ठा, ईमानदारी से संबंधित विषयों के प्रति उनकी अभिवृत्ति तथा उनके दृष्टिकोण तथा समाज से आचार-व्यवहार में विभिन्न मुद्दों तथा सामने आने वाली समस्याओं के समाधान को लेकर उनकी मनोवृत्ति का परीक्षण करेंगे। इन आयामों का निर्धारण करने के लिये प्रश्न-पत्र में किसी मामले के अध्ययन (केस स्टडी) का माध्यम भी चुना जा सकता है।

 

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-4 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | टॉपिक 8  

परीक्षा के डर पर काबू पाने के लिए  IAS मुख्य परीक्षा के GS पेपर-4 के लिए 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स आपसे साझा कर रहे हैं, जिससे आप इन टॉपिक्स पर अपनी पकड़ मजबूत कर पाएं और आप परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन कर सकें। आज का टॉपिक ‘मेडिकल एथिक्स और नैतिक मुद्दे’ के विमर्श से संदर्भित है।

प्रश्न: मेडिकल एथिक्स क्या है? डॉक्टर के कर्तव्यों के तहत विविध नैतिक मूल्यों का वर्णन करें ? 
उत्तर:समाज यदि चिकित्सक को भगवान मानता है, तो चिकित्सकों का भी परम कर्तव्य है कि अपने पेशे को पूरी ईमानदारी व निष्ठा के साथ इबादत समझकर करें। आजकल भौतिकता की अंधी दौड़ में चिकित्सा कार्य भी केवल एक व्यवसाय मात्र बनकर सिमट गया है। चिकित्सकों के अन्दर मरीजों के प्रति सेवा एवं दया की भावना के ह्रास के कारण समाज में मानवीय मूल्यों का ह्रास हो रहा है। ऐसे में चिकित्सकों की जिम्मेदारी और भी अधिक बढ़ जाती है अतः चिकित्सा पेशे में पूरी पारदर्शिता लाकर समाज में व्याप्त भ्रांतियों को दूर करें। डॉक्टरी को व्यवसाय न समझ कर निःस्वार्थ भाव से समाज के लिए कार्य करें। अभी हालिया मामलों को देखें तो गोरखपुर में बच्चों की हत्या, आये दिन हॉस्पिटल से मुत्यु हो चूके परिजनों को एम्बुलेंस न प्रदान करना, हॉस्पिटल में भर्ती न लेने के कारण अस्पताल परिसर में ही मरीज की मुत्यु, शिशु का जन्म होना, डॉक्टर का सरकारी अस्पतालों में सदैव अनुपस्थित रहना, मरीजों से अभद्रपूर्ण व्यवहार करना आदि संवेदनात्मक मुद्दे हैं जहाँ हम आये दिन डॉक्टर की लापरवाही से परिचित होते हैं।

नीतिशास्त्र की वह शाखा जिसके अंतर्गत हम चिकित्सा-प्रणाली एवं चिकित्सकों के व्यवहार से जुड़े मुद्दों का नैतिक मूल्यांकन करते हैं, चिकित्सा आचार-शास्त्र या मेडिकल एथिक्स कहलाता है। इसमें मुख्यतः चिकित्सकों के चिकित्सा व्यवहार का नैतिक मूल्यांकन किया जाता है तथा उनके कार्यों को नैतिक संदर्भ में उचित या अनुचित ठहराया जाता है। चिकित्सकों के आचार-शास्त्र से जुड़े नैतिक पहलू निम्नलिखित हैं –

  • चिकित्सक का प्रमुख उद्देश्य मानवता की सेवा होना चाहिये। चिकित्सक को धन को प्राथमिकता न देते हुए सेवा भाव को कर्तव्य मानते हुए अपना कृत्य करना चाहिए। उसे अपने चरित्र को प्रधान रखना चाहिए।
  • प्रत्येक चिकित्सक को चिकित्सा प्रणाली में प्रतिबंधित कर दिए गए कार्यों को करने से बचना चाहिये, जैसे- जन्म पूर्व भ्रूण लिंग परीक्षण आदि।
  • चिकित्सक को अपने व्यवसाय के उद्देश्य और मानवता की सेवा के लिये हर उस रोगी का इलाज करने की चेष्टा करनी चाहिये, जिसके रोग का इलाज करने में वह सक्षम हो।
  • एक चिकित्सक रोगी के स्वास्थ्य लाभ हित को ही सर्वोपरि रखकर परामर्श देना चाहिए और अनावश्यक एवं परेशान करने वाली परामर्श देने से बचना चाहिए।  उदाहरण के तौर पर देखा गया है कि चिकित्सक मौद्रिक लाभ के लिये अपने रोगियों को आवश्यक/अनावश्यक जाँचों हेतु किसी खास पैथोलॉजी की सलाह देते हैं, जो डॉक्टरी कर्म के नैतिकता के विरुद्ध है।
  • एक चिकित्सक को महामारी और संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिये जी-जान लगा देनी चाहिए, जिससे इसे प्रसारित होने एवं इससे होने वाली मोतों को कम किया जा सके। ऐसी स्थिति में  प्रशासन की मदद को तत्पर रहना चाहिये, साथ ही उसे स्वास्थ्य निधि और संसाधनों के गलत इस्तेमाल को रोकने की कोशिश करनी चाहिये।
  • चिकित्सा व्यवसाय से जुड़े कुछ अनैतिक कार्यों जैसे- मरीज़ों को लुभाने वाले विज्ञापन, स्वयं ही दवा की बिक्री करना, अनैतिक तरीके से कमीशन लेना, अंगों की तस्करी जैसे घृणित कार्य, दवा कंपनियों आदि से धन या उपहार स्वीकार करना आदि से एक चिकित्सक को बचना चाहिये।
  • चिकित्सालय के तहत आवश्यक जीवनदाई उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए, हर मरीज को एक समान दृष्टि से देखते हुए उपचार करना/सुविधा मुहैया करवानी चाहिए।
  • इस पवित्र पेशे में असावधानी, लापरवाही का स्थान नहीं है, अतः इससे सदैव बचा जाना चाहिए और प्रत्येक मरीज को अटेंड करना सुनिश्चित होना चाहिए। तीमारदार (मरीज के परिजन) की भावना को समझते हुए अनावश्यक विवाद की स्थिति से बचने का हरसंभव प्रयास होना चाहिए।

हम अक्सर अखबारों या मीडिया के अन्य माध्यमों से चिकित्सकों द्वारा शल्य-क्रिया, नसबंदी या अन्य चिकित्सा शिविरों के दौरान लापरवाही के तथा मौद्रिक लाभ कमाने के लिये उनके द्वारा किये गए निकृष्टतम कार्यों के बारे में पढ़ते-सुनते रहते हैं। ऐसी घटनाओं के कारण समाज के सबसे प्रतिष्ठित पेशे पर से लोगों का विश्वास कमज़ोर होता है। जिसकी परिणति आए दिन चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोगों के साथ होने वाली हिंसा के रूप में नज़र आती है। स्वास्थ्य एक प्रकार का मानवाधिकार ही है, अतः चिकित्सकों तथा अन्य चिकित्सा पेशेवरों को मेडिकल एथिक्स के सिद्धांतों का गंभीरता से पालन करना चाहिये।

 

OnlineTyari टीम द्वारा दिए जा रहे उत्तर UPSC की सिविल सेवा परीक्षा (IAS परीक्षा) के मानक उत्तर न होकर सिर्फ एक प्रारूप हैं। जिससे अभ्यर्थी उत्तर लेखन की रणनीति से अवगत हो सकेगा। वह उत्तर में निर्धारित समयसीमा में कलेवर को समेटने और समय प्रबंधन की रणनीति से परिचय पा सकेगा। जिससे वह सम्पूर्ण परीक्षा को समयसीमा में हल करने में समर्थ होगा।

फ्री पैकेज : IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 : फ्री पैकेज  

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 : फ्री पैकेज को परीक्षा की तैयारी में जुटे अभ्यर्थियों के तैयारी स्तर को जांचने के लिए निर्मित किया गया है। यह फ्री पैकेज टेस्ट नवीनतम पाठ्यक्रम पर आधारित है और इस टेस्ट के प्रत्येक टेस्ट में 100 प्रश्न सम्मिलित किए गए हैं। यह मॉक टेस्ट सीरीज Online Tyari के मोबाइल एप्लीकेशन और वेबसाइट दोनों पर उपलब्ध हैं। इस टेस्ट सीरीज में सम्मिलित होकर आप अभी फ्री में अपने तैयारी स्तर को जान सकते हैं और आगामी परीक्षा के लिए खुद में आवश्यक परिवर्तन भी कर सकते हैं।

अभी अभ्यास शुरू करें !

IAS फ्री मॉक टेस्ट : सामान्य अध्ययन पेपर -1

IAS प्रारंभिक परीक्षा : फ्री मॉक टेस्ट, सामान्य अध्ययन पेपर-1 

IAS प्रारंभिक परीक्षा : फ्री मॉक टेस्ट, सामान्य अध्ययन पेपर-1 फ्री मॉक टेस्ट है जिसे IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 में सम्मिलित होने वाले उम्मीदवारों के लिए Orient IAS द्वारा संकलित किया गया है। यह फ्री मॉक टेस्ट नवीनतम पाठ्यक्रम पर आधारित है और इस टेस्ट में 100 प्रश्न सम्मिलित किए गए हैं। यह मॉक टेस्ट सीरीज Online Tyari के मोबाइल एप्लीकेशन और वेबसाइट दोनों पर उपलब्ध हैं। इस टेस्ट सीरीज में सम्मिलित होकर आप अभी फ्री में अपने तैयारी स्तर को जान सकते हैं और आगामी परीक्षा के लिए खुद में आवश्यक परिवर्तन भी कर सकते हैं।

अभी अभ्यास शुरू करें !

IAS प्रारंभिक परीक्षा : स्वमूल्यांकन प्रश्न पत्र

IAS प्रारंभिक परीक्षा : स्वमूल्यांकन प्रश्न पत्र 

Online Tyari  द्वारा आप सभी के लिए स्व्मुल्याकन प्रश्न पत्र IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 को ध्यान में रखकर संकलित किया गया है। इस प्रश्न पत्र का उद्देश्य आपको आपकी तैयारी स्तर से अवगत कराना है। जिसके द्वारा आप अपनी योग्यता को स्वयं परख सकें। स्वमूल्यांकन प्रश्न पत्र के तहत दो पेपर दिए गए हैं – प्रथम सामान्य अध्ययन तथा द्वितीय सी-सैट।
यह मॉक टेस्ट सीरीज OnlineTyari के मोबाइल एप्लीकेशन और वेबसाइट दोनों पर उपलब्ध हैं। इस ऑनलाइन टेस्ट के माध्यम से आप अपनी योग्यता पारखने के साथ-साथ संपूर्ण भारत के उम्मीदवारों के साथ अपनी रैंक की तुलना कर सकते हैं और उसी के अनुसार सुधार करने की योजना बना सकते हैं।

फ्री में अभ्यास करें !

IAS प्रारम्भिक परीक्षा स्व्मुल्याकन टेस्ट : सामान्य अध्ययन पेपर-1

IAS प्रारंभिक परीक्षा : स्वमूल्यांकन टेस्ट, सामान्य अध्ययन पेपर-1 

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 : स्वमूल्यांकन टेस्ट, सामान्य अध्ययन पेपर-1 फ्री मॉक टेस्ट है जिसे 2018 की प्रारंभिक परीक्षा में सम्मिलित उम्मीदवारों के लिए Orient IAS द्वारा संकलित किया गया है। यह फ्री मॉक टेस्ट नवीनतम पाठ्यक्रम पर आधारित है और इस टेस्ट में 100 प्रश्न सम्मिलित किए गए हैं। यह मॉक टेस्ट सीरीज Online Tyari के मोबाइल एप्लीकेशन और वेबसाइट दोनों पर उपलब्ध हैं। इस टेस्ट सीरीज में सम्मिलित होकर आप अभी फ्री में अपने तैयारी स्तर को जान सकते हैं और आगामी परीक्षा के लिए खुद में आवश्यक परिवर्तन भी कर सकते हैं।

फ्री में अभ्यास करें !

IAS परीक्षा 2017 के बारे में और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। IAS परीक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ IAS परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कॉमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

NO COMMENTS

Leave a Reply