UPSC सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2017 की संभावित कटऑफ़

14
3112

UPSC सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2017 की संभावित कटऑफ़ : संघ लोक सेवा आयोग ने 18 जून को सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2017 का आयोजन किया। परीक्षा का कठिनाई स्तर मध्यम से कठिन था। प्रारंभिक परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले उम्मीदवार मुख्य परीक्षा के लिए चयनित किए जाएंगे।

यह लेख सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2017 में सम्मिलित हुए उम्मीदवारों के लिए तैयार किया गया है। इस लेख की सहायता से उम्मीदवारों को इस वर्ष की संभावित कटऑफ़ से अवगत हो सकेंगे। हमने यहां 2016 की कटऑफ़ भी दी है जिससे आप संभावित कटऑफ़ का अनुमान लगा सकें।

UPSC सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2017 की संभावित कटऑफ़ 

हम यहां IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 से संबंधित कटऑफ़ का उल्लेख कर रहे हैं जिसमें प्रत्येक श्रेणी द्वारा अर्जित कम से कम अंकों को प्रदर्शित किया गया है।

वर्ग (Category) UPSC सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा कटऑफ़
सामान्य (General) 116.00
अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) 110.66
अनुसूचित जाती (SC) 99.34
अनुसूचित जनजाति (ST) 96.00
PH-1 75.34
PH-2 72.66
PH-1 40.00
कुल अंक 200

इस वर्ष परीक्षा का कठिनाई स्तर पिछले वर्ष की परीक्षा से कठिन स्तर का था। सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-I में वस्तु और सेवा कर, बेनामी लेनदेन और केंद्र सरकार की योजनाओं जैसे नेशनल स्किल क्वालिफिकेशन फ्रेमवर्क, विद्यांजलि योजना और स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन जैसी योजनाओं के बारे में सवाल पूछे गए। समसामयिक से इस वर्ष काफी कम प्रश्न पूछे गए। अगर हम ट्रेंड की बात करें तो साफ़ दिखेगा कि पिछले कुछ वर्षों से UPSC प्रारंभिक परीक्षा में वैचारिक सवालों के स्थान पर तथ्यपूर्ण सवालों पर ध्यान दे रहा है। अब आपको बताते हैं की इस वर्ष की कटऑफ़ कहां तक पहुंचने की उम्मीद है-

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 की संभावित कटऑफ़  

हम अब सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2017 के सम्मिलित होने वाले उम्मीदवारों के लिए संभावित कटऑफ़ प्रस्तुत कर रहे हैं, आशा है इससे आपको मदद मिलेगी-

वर्ग (Category) UPSC सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा कटऑफ़
सामान्य (General) 115.00
अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) 109.00
अनुसूचित जाती (SC) 98.00
अनुसूचित जनजाति (ST) 95.00
PH-1 74.34
PH-2 71.66
PH-1 39.00
कुल अंक 200

ज़रुर पढ़ें: UPSC सिविल सेवा का प्रारंभिक परीक्षा 2017 का विश्लेषण

UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2017 से संबंधित और अधिक जानकारी के लिए हमारे साथ जुडे रहें । सिविल सेवा परीक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए, सर्वश्रेष्ठ IAS परीक्षा तैयारी ऐप निःशुल्क डाउनलोड करें।

Best-Government-Exam-Preparation-App-OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कॉमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

14 COMMENTS

  1. I am fresher for try to apply ias exam
    How I prepare, what I should do and from where I start for my preparation
    Please help me I am very confused.

    • आप सबसे पहले NCERT की कक्षा 6-12 तक की पुस्तकों का अध्ययन कर अपनी विभिन्न विषयों पर बुनियादी समझ विकसित करें. उसके पश्चात आप IAS परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण पुस्तकों का अध्ययन करें फिर करंट अफेयर पर फोकस करें.

    • सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-II जिसे CSAT पेपर भी कहते हैं के अंतर्गत गणित से प्रश्न पूछे जाते हैं. पर यह पेपर सिर्फ क्वालीफाई प्रकृति का होता है, मेरिट सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-I के तहत तैयार की जाती है.

    • आप इतिहास और कला एवं संस्कृति, भूगोल, अर्थशास्त्र, विज्ञान, पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी और राज्यव्यवस्था सम्बंधित पुस्तकों का अध्ययन अवश्य करें.

  2. Hloo sir mene 18 June ko first tym upsc prilism exam diya h suna h negative marking b h to kitne % marks hone chahiy passing k liy kya dono exam m 33% dono chahiy ya dono m alg alg 33% hone chahiy pls tell me bohot mehnat ki I want ki m clear kr lu mujhe trust b h m krlungi pr dar sa lgrha h mains ki tyari kb kre

    • बिलकुल नेगेटिव मार्किंग है. पर अभ्यर्थियों की संख्या पिछले वर्ष से अधिक है और दिनों-दिन प्रतिस्पर्धा बढ़ती जा रही है. हालांकि माना कि इस वर्ष का प्रश्न-पत्र विगत वर्ष के प्रश्न पत्र से थोड़ा कठिन था पर कट-ऑफ पिछले वर्ष के कट-ऑफ के नजदीक ही रहेगी. हमने कट ऑफ अधिक रखी है पर यह सामान्य के लिए 110-115 रहेगी ऐसा अनुमान है. विदित हो कि सामान्य के लिए विगत वर्ष की कट ऑफ 116 थी.

    • वैकल्पिक विषय का महत्त्व

      यह कहना पूर्णत: सही नहीं है कि सामान्य अध्ययन 1000 अंकों का है और वैकल्पिक विषय सिर्फ 500 अंकों का, इसलिये अभ्यर्थियों को सामान्य अध्ययन पर ज़्यादा बल देना चाहिये। ऐसा कहने वाले शायद वैकल्पिक विषय के रणनीतिक महत्त्व को नहीं समझते।
      इस परीक्षा में यह बात बिल्कुल मायने नहीं रखती कि किसी अभ्यर्थी को कितने अंक हासिल हुए हैं। महत्त्व सिर्फ इस बात का है कि किसी उम्मीदवार को अन्य प्रतिस्पर्द्धियों की तुलना में कितने कम या अधिक अंक प्राप्त हुए हैं।
      विगत कुछ वर्षों के परीक्षा परिणामों पर नज़र डालें तो आप पाएंगे कि हिंदी माध्यम के लगभग सभी गंभीर अभ्यर्थियों को सामान्य अध्ययन में 325-350 अंक प्राप्त हुए (2014 की सिविल सेवा परिक्षा में निशांत जैन ने एक अपवाद के रूप में 378 अंक प्राप्त किये थे)। इसके विपरीत, अंग्रेज़ी माध्यम के गंभीर अभ्यर्थियों को इसमें औसत रूप से 20-30 अंक अधिक हासिल हुए, जबकि वैकल्पिक विषय में लगभग सभी गंभीर अभ्यर्थियों को 270-325 अंक हासिल हुए। इस औसत से वैकल्पिक विषय का महत्त्व अपने आप स्पष्ट हो जाता है। ध्यान रहे कि ये लाभ आपको तभी मिल सकता है जब आपने वैकल्पिक विषय का चयन बहुत सोच-समझकर किया हो।
      भले ही वैकल्पिक विषय सिर्फ 500 अंकों का होता हो किंतु गलत वैकल्पिक विषय चुनने से आप लगभग 100 अंकों की नकारात्मक स्थिति में जा सकते हैं। इतना नुकसान तो अभ्यर्थी को 1000 अंकों के सामान्य अध्ययन में भी नहीं उठाना पड़ता।
      इस स्थिति को देखते हुए हिंदी माध्यम के उम्मीदवारों के लिये समुचित रणनीति यही बनती है कि अगर सामान्य अध्ययन में उन्हें कुछ तुलनात्मक नुकसान होता है तो उन्हें अन्य क्षेत्रों में इस नुकसान की भरपाई या उससे ज़्यादा लाभ हासिल करने की कोशिश करनी चाहिये।
      ऐसे क्षेत्र दो ही हैं- निबंध और वैकल्पिक विषय। निबंध का हल हमारी इच्छा पर निर्भर नहीं होता, वह सभी के लिये अनिवार्य है। किसी भी माध्यम के उम्मीदवारों को समान विषयों पर ही निबंध लिखना होता है। किंतु वैकल्पिक विषय का चयन हमें करना होता है और अगर हमारा चयन गलत हो जाता है तो पूरी संभावना बनती है कि सिर्फ एक गलत निर्णय के कारण हमारी सारी तैयारी व्यर्थ हो जाए।
      हिंदी माध्यम के उम्मीदवार उन्हीं विषयों या प्रश्नपत्रों में अच्छे अंक (यानी अंग्रेज़ी माध्यम के गंभीर उम्मीदवारों के बराबर या उनसे अधिक अंक) ला सकते हैं जिनमें तकनीकी शब्दावली का प्रयोग कम या नहीं होता हो, अद्यतन (Updated) जानकारियों की अधिक अपेक्षा न रहती हो और जिन विषयों पर पुस्तकें और परीक्षक हिंदी में सहजता से उपलब्ध हों।
      ………………..
      अखबार से आपको समसामयिक विषय की समझ हो जाती है और सामान्य अध्ययन के तहत पूछे जाने वाले प्रश्नों की रुपरेखा बनती है. साथ ही यह आपके निबंध लेखन में भी मदद करता है. इससे आपको अपने विचार को संपुष्ट कर अपनी बात को तर्काताम्क ढंग से रखने में भी मदद मिलती है. अतः अखबार आपके सामान्य अध्ययन, निबंध और साक्षात्कार में भी आपकी मदद करता है.

    • ph फिजिकली हैंडीकैप्ड (शारीरिक अक्षमता) की श्रेणी को दर्शाता है.

Leave a Reply